News

अभिनंदन पर शोर मचाने वाले जवान राजेन्द्र की सीमा से गुमशुदगी पर क्यों है चुप ? आओ सेना के इस जवान के लिए चलाए मुहीम

FB_IMG_1579093618488

देहरादून ब्यूरो) । कभी सेना के एक जवान के लिए पूरा देश एक हो गया था और सरकार ने भी उसे वापस लाने के लिए एडी चोटी के जोर लगा कर उसे दुश्मनों के हाथो से सकुशल वापस ले लिया था। लेकिन आज जब सेना का एक सिपाही कई दिनों से लापता है तो न देशवासियों की भावनाए उसके प्रति दिख रही है और न ही सरकारों के प्रयास। ऐसे में गढ़वाल राइफल के सिपाही के सीमा से लापता होने के उसकी वापसी की राह देख रहे परिजन की आस दिन  दिन टूटती जा रही है।

बुधवार को अधिकार मंच की ओर से जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल  के माध्यम से प्रधामनंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र भेजकर हवलदार राजेंद्र सिंह नेगी  की जल्द तलाश करने की मांग की गई। हवलदार राजेंद्र सिंह नेगी 11वीं गढ़वाल राइफल्स में तैनात हैं। इन दिनों उनकी तैनाती जम्मू-कश्मीर के गुलमर्ग इलाके में है। भारतीय सेना की ओर से आठ जनवरी 2020 को उनकी पत्नी राजेश्वरी नेगी के पास फोन आया कि राजेंद्र ड्यूटी पर तैनात थे और वो बर्फ में फिसल गये हैं, बर्फ में फिसलने के बाद वो कहां गये, यह पता नहीं लग पा रहा है।

गुलमर्ग के जिस इलाके में वो तैनात थे वह इलाका पाकिस्तान के काफी निकट है। ऐसी आशंका है कि कहीं पाकिस्तान सेना ने हवलदार राजेंद्र नेगी को अपने कब्जे में न ले लिया हो। यदि ऐसा है तो प्रधानमंत्री जी से अनुरोध है कि पाकिस्तानी हाई कमिश्नर या अन्य पाकिस्तानी नेताओं से बात कर या दबाव बनाकर हवालदार राजेंद्र सिंह नेगी को सुरक्षित भारत लाने का काम करें। जिस तरह से विंग कमांडर अभिनंन्दन को पाकिस्तान के कब्जे से सुरक्षित वापस लाने का काम किया गया, उससे हमारे देश के जवानों और अफसरों का मनोबल बढ़ा था। इसलिए आपसे अनुरोध है कि हवलदार राजेंद्र सिंह नेगी की तलाश यथाशीघ्र की जाए।

Mahaveer negi
written by: Mahaveer negi
English EN Hindi HI