NewsUncategorized

पहाड़ पर आयुर्वेदा विलेज एक नयी पहल जानिए इसकी खासियत और अहमियत

WhatsApp Image 2020-01-11 at 17.47.27

चमोली ब्यूरो। सीमांत जनपद चमोली में जिलासू-लंगासू क्षेत्र जल्द ही आयुर्वेदा विलेज के रूप में देखने को मिलेगा। जिलाधिकारी स्वाति एस.भदोरिया की पहल पर जो नया टूरिस्ट डेस्टिनेशन बनकर उभरेगा और पर्यटकों को यहाॅ पर पहाड की लाइफ का अनुभव मिलेगा।

यहाॅ पर आयुर्वेदा विलेज के तहत पंचकर्मा हाॅल, मेडिटेशन सेंटर, योगा सेंटर, हर्बल गार्डन, ईको पार्क, रीवर व्यू प्वांइट, पहाडी शैली में होम स्टे का निर्माण कार्य चल रहा है, जबकि ग्रामीण हाट बनकर लगभग तैयार हो चुका है।

जिलाधिकारी ने आला अधिकारियों के साथ जिलासू का भ्रमण कर पहाडी शैली में निर्माणाधीन होम-स्टे एवं ग्रामीण हाट के निर्माण कार्यो को गुणवत्ता के साथ जल्द पूरा कराने के निर्देश दिए। जिलासू में लगभग 13 लाख की लागत से खूबसूरत पहाडी शैली में होमस्टे भी बनाया जा रहा है

यहाॅ पर पर्यटकों को पहाडी जीवन का अनुभव मिल सके। पर्यटकों को अलकनंदा नदी की लहरों का करीब से दीदार हो सके इसके लिए जिलासू में रीवर ब्यू प्वाइंट भी तैयार किया जा रहा है। जिलाधिकारी ने रीवर ब्यू प्वांइट में प्रवेश द्वार को आकर्षक एवं सुन्दर ढंग से निर्माण कराने, इंड सीटिंग बैंच एवं राउंड कैनोपी बनवाने, बीच में पत्थरों को रंगरोगन कराने के निर्देश दिए।

रीवर ब्यू प्वाइंट पर आस्था पथ का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है और जल्द ही यह टूरिस्ट डेस्टिनेशन के रूप में संचालित किया जाएगा।लंगासू में पंचकर्मा हाॅल में सभी निर्माण कार्यो को 10 दिनों के भीतर पूरा कराने और शीघ्र सेंटर से लोगों को पंचकर्मा सुविधाएं मुहैया कराने,आयुर्वेदा विलेज के तहत लंगासू व जिलासू दोनों विलेज को जोड़ने के लिए लकडी या ग्लास का पुल निर्माण के लिए आरडब्लूडी को प्रस्ताव शीघ्र तैयार करने के निर्देश दिए।

Mahaveer negi
written by: Mahaveer negi
English EN Hindi HI