Mahaveer negi

Mahaveer negi

News

पीएम की इस योजना पर खरा उतरा उत्तराखंड का यह जिला, देश के 25 जिलों में मिला स्थान

IMG-20200229-WA0044
views
5856

नैनीताल – बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं अभियान के लिए सम्पर्ण भाव से कार्य कर रहे जिलाधिकारी श्री सविन बंसल ने अल्प समय में वह कार्य किये हैं जिनकी गूंज दिल्ली तक पहुॅच चुकी है। भारत सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के तहल अद्वितीय एवं अनोखे कार्य करने के लिए उत्तराखण्ड से जनपद नैनीताल का चयन किया है।

इस बाबत महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के संयुक्त सचिव आस्था सक्सेना खटवानी ने पत्र भेजकर जिलाधिकारी को बधाई दी है और बताया है कि राष्ट्रीय स्तर पर बालिकाओं के लिए समर्पित इस कार्यक्रम के तहत देशभर के चयनित जनपदों में हुए उल्लेखनीय कार्यों पर आधारित 25 कहानियों का समावेश करते हुए फिल्म बनायी जा रही है।

जनपद नैनीताल से बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं अभियान पर आधारित वाॅल पेंटिंग कार्य को कहानी के तौर पर चयन किया गया है। पत्र में बताया गया है कि बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के सम्बन्ध में देश की राजधानी दिल्ली में एक भव्य कार्यक्रम आयोजित किया गया है जिसमें इस योजना के अन्तर्गत बेहतर काम करने वाले लोगो को सम्मानित किया जायेगा।

इस उपलब्धि पर जिलाधिकारी ने सभी जनपद वासियों के साथ ही बालिकाओं, शिक्षण संस्थानो, महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों कर्मचारियो को बधाई और शुभकामनाऐ दी हैं और कहा है कि सभी के अथक प्रयासों से जिले को यह मुकाम हासिल हुआ है। उन्होंने बताया कि जनपद में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान को और बुलन्दी पर ले जाया जायेगा ताकि यह अभियान जन आन्दोलन के रूप में क्रियान्वित हो।
गौरतलब है कि विगत छः महीने से जिलाधिकारी द्वारा स्वंय बच्चियों के साथ मिलकर जिलेभर की खाली दीवारों पर सुन्दर चित्र उकेरने का काम किया है।

उनका मानना है कि बच्चे बचपन से ही काफी प्रतिभाशाली होते हैं तथा उनके भीतर विभिन्न प्रकार के कलात्मक गुण विद्यमान होते हैं, जरूरत इस बात की है कि बच्चों की इस प्रतिभा को सामने लाने तथा निखारने के लिए उचित मंच एवं वातारण दिया जाये। श्री बंसल का मानना है कि बेटी है तो कल है। संस्कारवान एवं शिक्षित बेटी दो परिवारों में उजाला पहुॅचाती है ।

News

अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव ऋषिकेश में -त्रिवेंद्र, योगी सहित कई बड़े नेता होंगे शामिल, कैलाश खेर बांधेंगे समा

9V1A7056~2
views
5785

ऋषिकेश। परमार्थ निकेतन के दिव्य प्रांगण में योग, अध्यात्म और ध्यान की दिव्य ऊर्जा से योग जिज्ञासुओं को जीवंत करने वाला 31 वां अन्तर्राष्ट्रीय योग महोत्सव का शुभारम्भ 1 मार्च 2020 को उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत जी, पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री भारत सरकार प्रहृलाद पटेल विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, आयुष मंत्री, उत्तराखण्ड हरक सिंह रावत अन्य गणमान्य अतिथियों, भारत सहित विश्व के अनेक देशों से आये योगाचार्यो, योग जिज्ञासुओं एवं अध्यात्म जगत की शिखरस्थ दिव्य आत्माओं के पावन सान्निध्य में होगा।
भारतीय योग परम्परा से अभिभूत होने के लिये परमार्थ निकेतन में योग जिज्ञासु पहुंच रहे है। परमार्थ गुरूकुल के ऋषिकुमारों द्वारा भारतीय परम्परानुसार तिलक लगाकर योग जिज्ञासुओं का दिव्य स्वागत किया जा रहा है। इस बार अन्तर्राष्ट्रीय योग महापर्व में सम्मिलित होने के लिये सम्पूर्ण विश्व के 50 से अधिक देशों के 700 से अधिक प्रतिभागी पहले से ही पंजीयन करा चुके है।

शान्ति, सद्भाव और वसुधैव कुटुम्बकम् का संदेश देने वाले इस अन्तर्राष्ट्रीय योग महोत्सव का शानदार आयोजन पूज्य महामण्डलेश्वर स्वामी असंगानन्द सरस्वती जी महाराज, परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज एवं जीवा की अन्तर्राष्ट्रीय महासचिव साध्वी भगवती सरस्वती जी के मार्गदर्शन एवं आशीर्वाद से किया जा रहा है। अन्तर्राष्ट्रीय योग महोत्सव का आयोजन अतुल्य भारत, पर्यटन मंत्रालय, भारत सरकार के संयुक्त तत्वाधान में किया जा रहा है।
अन्तर्राष्ट्रीय योग महोत्सव के बारे में परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा कि ’’भारत केवल एक भूमि का टुकड़ा नहीं बल्कि यह तो जीता-जागता शान्ति का संदेश प्रसारित करने वाला राष्ट्र है। योग, भारत की आध्यात्मिक विरासत है, योग और ध्यान के माध्यम से वैश्विक स्तर पर व्याप्त चुनौतियों को कम किया जा सकता है। योग एक ऐसी दुनिया के निर्माण की कुंजी है जिससे हम एकता, विश्वास, प्रेम और बंधुत्व का निर्माण कर सकते हैं। योग के क्षेत्र में भारत का नेतृत्व यह भी दर्शाता है कि हम प्रतिक्रिया नहीं करते बल्कि सचेत होकर कार्य करने में विश्वास करते हैं और योग केवल किसी एक देश के लिये नहीं बल्कि यह तो पूरे विश्व के लिये है।
अन्तर्राष्ट्रीय योग की निदेशक साध्वी भगवती सरस्वती ने कहा कि हमें इस बात पर ध्यान देना होगा कि ’एक योगी किस प्रकार उपयोगी बन सकता है’ और ’किसी प्रकार सहयोगी बन सकता है।’ आज दुनिया में जो भी हो रहा है उससे देखते हुये लगता है कि योग हम सभी के लिये कितना जरूरी और सहयोगी है। इस वर्ष योग की अवधारणा आपसी एकता और सद्भाव के रूप में विकसित करनी होगी ताकि हमारे देशी-विदेशी भाई-बहन, धरती माता और भावी पीढ़ियों के लिये मिलकर कार्य करें।

News

हरिद्वार के इस कॉलेज ने शहीदों के लिए शुरू की ये पहल

IMG-20200229-WA0030
views
6096

हरिद्वार  । आज हम वीर शहीदों की कुर्बानियों की बदौलत स्वतंत्र हैं। जवानों की वजह से खुली हवा में सांस ले रहे हैं। जिस समय देश का जवान सीमा पर सीना तान कर खड़ा होता है तब हम रात को चैन से अपने घरों में सो रहे होते हैं। इसलिए शहीदों को हमेशा याद रखना चाहिए। उक्त विचार एस.एम.जे.एन.पी.जी. काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. सुनील कुमार बत्रा ने महाविद्यालय में निर्मित शौर्य दीवार के नवीनीकरण हेतु शिलान्यास करते हुए व्यक्त किये।
डाॅ. सुनील कुमार बत्रा ने शौर्य दीवार के शिलान्यास के अवसर पर शहीदों को नमन करते हुए कहा कि शौर्य दीवार का निर्माण काॅलेज प्रबन्ध समिति के सौजन्य से किया जायेगा। उन्होंने कहा कि देश पर सर्वोच्च बलिदान करने वाले शहीदों को हमारी ओर से यह एक श्रद्धाजंलि होगी तथा युवा पीढ़ी उनके बलिदानों से प्रेरणा लेगी। डाॅ. बत्रा ने छात्र-छात्राओं से सेना में भर्ती होने का आह्वान करते हुए कहा कि देशभक्तों व वीर सैनिकों के बिना किसी भी देश के अस्तित्व की कल्पना नहीं की जा सकती। देशभक्तों की शहादत के बदौलत हमें आजादी मिली। डाॅ. बत्रा ने कहा कि काॅलेज के छात्र-छात्राओं में देशभक्ति की अलख जगाने के लिए काॅलेज परिसर में शौर्य दीवार का शिलान्यास किया गया है, इससे वीर शहीदों की याद ताजा रहती है जिन्होंने देश के लिए अपनी कुर्बानी दी।
अधिष्ठाता छात्र कल्याण अधिष्ठाता डाॅ. संजय कुमार माहेश्वरी ने वीर शहीदों की कुर्बानी को याद किया। डाॅ. माहेश्वरी ने प्रबन्ध समिति का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उनके सौजन्य से काॅलेज में शीघ्र ही भव्य शौर्य दीवार स्थापित हो जायेगी।
मुख्य अनुशासन अधिकारी डाॅ. सरस्वती पाठक ने कहा कि वीर शहीद हमारे लिए आदर्श हैं। डाॅ. पाठक ने कहा कि देश पर मिटने का हर किसी को मौका नहीं मिलता। डाॅ. पाठक ने छात्र-छात्राओं का आह्वान करते हुए कहा कि काॅलेज में शौर्य दीवार के शिलान्यास से युवा पीढ़ी भी वीर जवानों के संस्कारों की प्रेरणा लेकर देश व समाज के प्रति अपने दायित्व का निर्वहन करें।
इस अवसर पर मुख्य रूप से डाॅ. जगदीश चन्द्र आर्य, अश्वनी कुमार जगता, डाॅ. मनोज कुमार सोही, डाॅ. शिव कुमार चैहान, डाॅ. विजय शर्मा सहित काॅलेज के अनेक छात्र-छात्रा उपस्थित थे।

News

हरिद्वार की यह खासियत फ्रांस के राजदूत को खींच लाई हरिद्वार

IMG-20200228-WA0027
views
6258

प्रेस विज्ञप्ति

फ्रांस के माननीय राजदूत का पतंजलि आगमन

पतंजलि ने प्राचीन ऋषि-महर्षियों के ज्ञान को आधुनिक विज्ञान के साथ जोड़कर
विश्व के कोने-कोने तक पहुँचाया: फ्रांसिसी राजदूत

पतंजलि का मूल ध्येय समाज सेवा से राष्ट्रसेवा: पूज्य आचार्य जी महाराज

फ्रांस में आयोजित होने वाले अंतरराष्ट्रीय बुक फेयर में श्रद्धेय आचार्य जी को किया आमंत्रित

हरिद्वार। भारत में फ्रांस के माननीय राजदूत इमैनुअल लेनिन का आज पतंजलि आगमन हुआ। पतंजलि पहुँचने पर संस्था के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण जी महाराज ने फ्रांसिसी राजदूत को शॉल भेंट कर भव्य स्वागत किया।

इस अवसर पर फ्रांसिसी राजदूत ने कहा कि मेरा पतंजलि तथा तीर्थ नगरी हरिद्वार के लिए विशेष आकर्षण है। उन्होंने कहा कि मुझे भारतीय संस्कृति तथा हिन्दू परम्परा के प्रति बहुत लगाव है। मैं काशी भी गया था तथा अब हरिद्वार व पतंजलि भ्रमण के लिए आया हूँ क्योंकि पतंजलि ही एकमात्र ऐसी संस्था है जिसने प्राचीन ऋषि-महर्षियों के ज्ञान को आधुनिक विज्ञान के साथ जोड़कर विश्व के कोने-कोने तक पहुँचाने का काम किया है।

उसी विज्ञान को देखने की मेरी प्रबल इच्छा थी, जिस कारण मैं यहाँ आया हूँ।
उन्होंने कहा कि मैं यह देखकर बहुत प्रसन्न हूँ कि मैं जैसा महसूस करता था, उससे कहीं बढ़कर मैंने पतंजलि की गतिविधियों को पाया। यह एक दिव्य अनुभूति है कि स्वामी के मार्गदर्शन में संन्यासियों की एक श्रृंखला तैयार की जा रही है।

स्वामी जी व पूज्य आचार्य जी जहाँ संस्कृति रक्षा के लिए स्वयं प्रयासरत हैं, वहीं सैकड़ों संन्यासियों/ ब्रह्मचारियों के माध्यम से जो कार्य आगे बढ़ रहा है उसको देखकर मैं बहुत प्रसन्न हूँ। उन्होंने कहा कि फ्रांस में हाल ही में व्यापक स्तर पर एक अंतरराष्ट्रीय बुक फेयर संचालित होने जा रहा है जिसके लिए मैं विशेष रूप से आचार्य जी को आमंत्रित करने आया हूँ।

मेरा निवेदन है कि आचार्य जी इस बुक फेयर में आएँ और अपने उद्बोधन से हमें शुभकामनाएँ दें तथा साथ ही स्वास्थ्य के क्षेत्र में हमें योग-आयुर्वेद के साथ जोड़ें। उन्होंने योग-आयुर्वेद के संदर्भ में फ्रांस सरकार के साथ एक एम.ओ.यू. करने की इच्छा भी प्रकट की।
फ्रांसिसी राजदूत ने पतंजलि अनुसंधान संस्थान, वैदिक गुरुकुलम् तथा पतंजलि योगपीठ का भ्रमण कर संस्था द्वारा संचालित समाजसेवी कार्यों की भूरी-भूरी प्रशंसा की।

उन्होंने पतंजलि अनुसंधान संस्थान स्थित हर्बल गार्डन में एक पौधा भी रोपित किया। ज्ञात हो कि राजदूत महोदय भारतीय संस्कृति के प्रति निष्ठा रखने के साथ-साथ एक अच्छे फोटोग्राफर भी हैं। वे पतंजलि का भ्रमण कर अभिभूत हुए तथा स्वयं को पतंजलि परिसर के फोटो खींचने से नहीं रोक पाए।

News

अटल आयुष्मान को लेकर उत्तराखंड कैबिनेट में किए गए बड़े बदलाव, पढ़े कैबिनेट के फैसले

IMG-20200228-WA0005~2
views
5556

कैबिनेट के फ़ैसले
आज कैबिनेट की बैठक हुई जिसने १४ फ़ैसले हुए
१- झाजरा में निर्माणाधीन साइयन्स सिटी में सलाहकार के लिए जी एस रौतेला की नियुक्ति तीन साल के लिए होगी नियुक्ति !
२- राष्ट्रीय कृषि उपज पशुधन संविदा खेती व सेवाए अधिनियम को लागू किए जाने को मंज़ूरी अधिनियम के तहत खेती को कॉंट्रैक्ट पर दिया जाने को मंज़ूरी!
३-उत्तराखंड कृषि उत्पादन मंडी अधिनियम २०११ के एस्थान पर कृषि मंडी धन उपज विपणन पशुधन अधिनियम को मंज़ूरी अधिनियम बीचोलियों को मिलेगी मुक्ति
४- अटल आयुष्मान योजना में हुआ संशोधन अब रेफ़र करने की व्यवस्था को समाप्त किया स्टेट हेल्थ प्राधिकरण की भी मंज़ूरी१० कॉल सेंटर बनाए जाएँगे डी के कोटियाँ होंगे प्राधिकरण के अध्यक्ष
५- अटल आयुष्मान योजना में राज्य कर्मचारियों को कवर किया जाएगा पेंशनेर को भी मिलेगा लाभ सरकारी कर्मचारियों के लिए भी बनेगा गोल्डोंन कार्ड बनेगा कर्मचारियों से २५०. ,४५० ,६५० ,१००० लिया जाएगा शुल्क!
६-एसडीआरएफ में प्रतिनियुक्ति ५ से बढ़ाकर ७ वर्ष किया गया
७-मेगा इंडस्ट्री इन्वेस्टमेंट पॉलिसी २०११ में संशोधन नेगेटिव इंडस्ट्री को छूट नही मिलेगी प्लास्टिक पैन मसाला पेट्रोलियम पदार्थ सीमेंट स्टील को आदि को नयी इंडस्ट्री लगाने पर नही मिलेगी छूट ४०० करोड के अंतर्गत सूपर इंडस्ट्री catagory में ३० प्रतिशत को मिलेगी छूट
८-मेगा टैक्स टाइल इंडस्ट्री २०२१ तक मिलेगी छूट
९- पंचायती राज ऐक्ट २०१७ में संशोधन धारा २ में पंचायती को परिभाषित किया गया !
११-लोक निर्माण विभाग के ५०० मीटर तक की सड़क में ३ मीटर तक की सड़कों का विधायक निधि से हो सकेगा निर्माण
१२-.आदि बदरी में १ हेक्टेयर को भारतीय पुरातत्व विभाग को निशलक दी गयी
१३- कबरिस्तान की चारदिवारी के निर्माण के लिए एक वर्ष ओर बढ़ाया गया
१४-उत्तराखंड साक्षी अधिनियम २०२० के तहत राज्य में कोर्ट में मुक़दमे में गवाह को मिल सकेगी सुरक्षा !गम्भीर मुक़दमे में गवाह को हाई मिलेगी सुरक्षा

News

उत्तराखंड में भाजपा को फिर से घेरने के लिए कांग्रेस ने बनायी नयी रणनिति

views
5997

देहरादून लालटेन यात्रा के बाद कांग्रेस उत्तराखंड में भाजपा को घेरने की नयी रणनिति पर काम कर रही हैं। गुरुवार को प्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा राज्य की भाजपा सरकार के खिलाफ सड़को पर उतरने का ऐलान किया हैं। दरअसल कांग्रेस का कहना है कि प्रदेश सरकार की जन विरोधी नीतियों तथा फाॅरेस्ट गार्ड भर्ती घोटाले के विरोध में यह प्रदर्शन किया जाऐगा।

यह विरोध प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में 1 मार्च प्रातः 1100 बजे देहरादून के गांधी पार्क में विशाल धरना-प्रदर्शन कार्यक्रम आयोजित किया गया है। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता प्रतिभाग करने का दावा किया गया हैं।
उपरोक्त जानकारी देते हुए महानगर अध्यक्ष लालचन्द शर्मा ने बताया कि एक ओर राज्य सरकार द्वारा गरीब जनता के आवागमन का साधन रोड़वेज की बसों के किराये, भवन कर, बिजली पानी के करों में वृद्धि कर मंहगाई बढ़ा रही है। वहीं दूसरी ओर फाॅरेस्ट गार्ड जैसे पदों पर भर्ती परीक्षा में घोटाले को अंजाम देकर प्रदेश के युवाओं से छलावा कर रही है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी भाजपा सरकार की इन्हीं जन विरोधी व उत्तराखण्ड विरोधी नीतियों के खिलाफ 1 मार्च को गांधी पार्क में प्रदर्शन के माध्यम से अपना विरोध दर्ज करेगी। उन्होंने महानगर के सभी कांग्रेसजनों का आह्रवान किया है कि भाजपा सरकार की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ आयोजित कार्यक्रम में भागीदारी सुनिश्चित करें।

अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा आयोजित फारेस्ट भर्ती में हुए घोटाले, राज्य में शराब को बढ़ावा देने की नीति व महंगाई के खिलाफ कांग्रेस पार्टी द्वारा चलाये जा रहे अभियान की कड़ी में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने आगामी एक मार्च रविवार को राजधानी देहरादून में गांधी पार्क में धरने के ऐलान किया है।

उक्त जानकारी देते हुए प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने कहा कि राज्य की सरकार ने राज्य के बेरोजगारों के साथ विश्वास घात किया है,पिछले तीन वर्षों में किसी भी विभाग में बेरोजगारों की भर्ती करना तो दूर की कौड़ी रही उल्टा फारेस्ट गार्ड भर्ती में भारी घोटाला करने के लिए प्रवेश परीक्षा में ही पेपर लीक करवा दिया।

उन्होंने कहा कि राज्य में महंगाई से जनता त्राहिमाम त्राहिमाम कर रही है और त्रिवेंद्र सरकार बजाय जनता को महंगाई से राहत देने के शराब की बिक्री बढ़ाने की सौगात दी रही है। श्री धस्माना ने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में राज्य भर में जनसरोकारों के मुद्दों पर संघर्ष जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि एक मार्च को गांधी पार्क के समक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में विशाल धरना प्रातः 10 बजे से शुरू होगा।

News

हाथों से नहीं अपने हौंसलों से छू लिया आसमान,दम अभी ओर आगे जाने का है

views
5737

अमेठी मंजिल उन्ही को मिलती है जिनके सपनो में जान होती है पंखों से कुछ नही होता हौसलों से उड़ान होती है इस कहावत को चरितार्थ कर दिखाया है दोनो हाथों से दिव्यांग छात्र अमर बहादुर ने जो दोनो हाथ न होने के बावजूद पैरों से लिखकर इंटर की परीक्षा दे रहा है।अमर बहादुर हाईस्कूल में 59 प्रतिशत अंक हासिल कर चुके है और अध्यापक बनने की चाहत रखते है लेकिन पैसे के अभाव में उनकी उम्मीदे दम तोड़ती नजर आरही है।
अमेठी तहसील के एक छोटे से गाँव करेहगी के रहने वाले और रणवीर इंटर कॉलेज अमेठी मे इंटरमीडिएट की परीक्षा दे रहा है अमर बहादुर के दोनो हाथ नही है लेकिन वे पैरो की उंगलियो से परीक्षा देने का जज्बा दिखाया है।इनके जज्बे को देखते हुये लोग जमकर सराहना कर रहे है और कह रहे है अगर किसी कार्य को करने की लगन दिल मे हो तो असम्भव कुछ नही होता है।

लाख बधाये सामने हो लेकिन उनको रोकपाना असम्भव होता है।ऐसे ही हौसले अमर बहादुर मे भी है जिनके हाथ ना होने के बावजूद भी कठिनायो से ऊपर उठकर यहाँ तक पहुँचे है।इतना ही नही अमर बहादुर घर मे ही पढ़ाई कर हाईस्कूल 59% अंक हासिल कर चुके है।अमर बहादुर की माने तो वो पढ़ कर टीचर बनना चाहते है जिससे वे अपने आस पास के बच्चो को अच्छी तालीम दे सके और वो बच्चे देश के साथ उनका भी नाम भी रोशन कर सके।

उनके पास इतना पैसा भी नही है कि वे अपनी किताबे खरीद सके माँ बाप इतने गरीब है कि वे किसी तरह पेट पालते है।अमर बहादुर का कहना है कि अगर सरकार की तरफ से कोई मदद मिलती है तो हम कुछ कर सकेगे।अमर बहादुर पढ़ाई के साथ साथ मोबाइल का काम भी जनते है।

अमर बहादुर की माँ केवला देवी की माने तो अमर बहादुर जन्म से ही दिव्यांग पैदा हुये थे और पढ़ाई भी मन लगाकर करते थे।अमर बहादुर पढ़ लिखकर मास्टर बनाना चाहते है लेकिन हम लोग बहुत ही गरीब है इतना पैसा नही है कि इनकी पढ़ाई आगे करा सके। अगर सरकार की तरफ से आर्थिक सहायत मिलती है तो वे आगे की भी पढ़ाई करा सकेगे।

वही जिला प्रसाशन भी अमर बहादुर के जज्बे को सलाम कर रहा है।अमेठी डीएम का कहना है कि ये बच्चा अमेठी के साथ प्रदेश के बच्चो के लिए प्रेरणास्रोत है जो दोनो हाथ न होने के बावजूद पैरों से लिखकर इंटर का पेपर दे रहा है। इतनी अक्षमता होने के बावजूद ये बच्चा पेपर दे रहा जिससे हम इसके उज्जवल भविष्य की कामना करते है और प्रसाशन की तरफ से जो मदद होगी उसे दी जाएगी।

News

सरकार की घोषणा-अब उत्तराखंड में हरेला पर हर साल होगी छुट्टी,जमकर लगाओं पेड़

views
6502

नैनीताल उत्तराखंड में अब हरेला पर्व पर सार्वजनिक छुटटी होगी। सीएम त्रिवेंद्र रावत ने इसकी घोषणा करते हुए कहा कि जल जीवन मिशन के लक्ष्य और उद्देश्य तथा जन-जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव बढ़े हैं परन्तु 4.5 साल में यह लक्ष्य पूरा करने के प्रति हम पूरी तरह आशान्वित हैं। मुख्यमंत्री रावत ने घोषणा की कि इस वर्ष हरेला पर 16 जुलाई को अवकाश रहेगा और इस दिन राज्य के लोग पौधे लगाएं। उन्होंने कहा कि सरकार ने आते ही राज्य के 20 लाख शौचालयों के सिस्टन में बिना बजट के एक लीटर की बोतलें डालकर प्रतिदिन एक करोड़ लीटर पानी बचाने का अभियान चलाया था। हरेला पर्व पर अल्मोड़ा में कोसी नदी के तट पर 1.67 लाख, देहरादून में रिस्पना नदी क्षेत्र में 2.5 लाख व हरेला पर 2.24 लाख पौधे लगाए गए।

राष्ट्रीय जल जीवन मिशन योजना के अन्तर्गत आरएस टोलिया उत्तराखंड प्रशासन अकादमी में गुरुवार को ’’सहभागी स्प्रिंग शेड प्रबन्धन के माध्यम से पहाड़ों में पीने योग्य पानी की व्यवस्था’’ विषय पर आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला का शुभारंभ केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने दीप जलाकर किया।
केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री शेखावत ने जलवायु परिवर्तन एवं तापमान वृद्धि के दुष्परिणाम परिलक्षित हो रहे हैं। उन्होंने जलवायु परिवर्तन एवं तापमान वृद्धि पर चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा कि हमें प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग कस्टोडियन बनकर करना होगा और आने वाली पीढ़ी के लिए संरक्षित करना होगा। वर्तमान समय पानी की मांग लगातार बढ़ रही है परन्तु जल संसाधनो में कमी आ रही है। इसलिए सभी का उद्देश्य होना चाहिए कि प्राकृतिक जल स्त्रोंतों के उपयोग के साथ ही उनके रिचार्च की रणनीति बनाकर कार्य करें ताकि जल स्त्रोंतों में किसी भी प्रकार की कमी न हो।

नया भारत बिना जल प्रबंधन के नहीं हो सकता है। वर्षा से पानी पूर्व की तरह ही प्राप्त हो रहा है परंतु प्रबंधन में कमी आयी है। उन्होंने कहा कि नदियाॅ, तालाब, झरने, सूखने लगे हैं और ग्राउण्ड वाटर लेवल भी गिर रहा है। इनका संरक्षण, संवर्धन एवं पुर्नजीवित करने के लिए कार्यों में गति बढ़ाकर कम समय में अधिक कार्य करने होंगे। उन्होंने कहा कि कार्यशाला का उद्देश्य जल जीवन मिशन योजना के अन्तर्गत पर्वतीय क्षेत्रों में स्प्रिंग शेड मैनेजमेंट के प्रोटोकाॅल को साझा करना, व्यवस्थित कार्य प्रणाली पर चर्चा एवं निष्कर्स तथा अनुभवों के आधार पर स्प्रिंग शेड प्रबन्धन गतिविधियों के लिए जनता को जागरूक करना व हर घर में नल और हर नल में जल की संकल्पना को साकार करना है।

शेखावत ने कहा कि पिछले 70 सालो में जितने घरो तक पेयजल की आपूर्ति की गयी, उसके सापेक्ष पाॅच वर्षो (2019 से 2024 तक) के लिए लक्ष्य पाॅच गुना बढ़ाकर देश के 15 करोड़ ग्रामीण आवासों तक शुद्ध पेयजल पहुॅचाने का लक्ष्य रखा गया है। इस लक्ष्य को राज्यों और केन्द्र सरकार द्वारा आपसी तालमेल से पूरा करना है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने 2024 तक हर घर में नल और हर नल में जल का लक्ष्य रखा है। 3.50 लाख करोड़ रूपये के बजट का प्रावधान है,

उन्होंने कहा कि सेनिटेशन मिशन पर खर्च धनराशि का 4 गुना लाभ देशवासियों को प्राप्त हो रहा है। इसके कारण महिलाओं के प्रति होने वाले अपराध घटे हैं, पर्यावरणीय नुकसान में कमी आई है। एक छोटे से मिशन के बहुत दूरगामी परिणाम होते है। पेयजल उपलब्ध कराने से व्यक्तियों में बीमारियों में कमी आयेगी और स्वास्थ्य लाभ होगा। उन्होंने कहा कि जल स्त्रोंतों के सरक्षण, संवर्धन एवं पुर्नजीवन के लिए जनता को जागरूक करना होगा और जनता को जल संकट एवं जल स्त्रोतों के महत्व के बारे में भी दीर्घकालिक परिणामों से अवगत कराना होगा।

उन्होंने उत्तराखण्ड द्वारा जल संरक्षण, संवर्धन एवं नदियों के पुर्नोद्धार कार्यो की प्रशसंा करते हुए कहा उत्तराखण्ड वास्तव में बधाई का पात्र है। उत्तराखंड इस कार्य में पुरस्कृत भी हुआ है। उन्होंने कहा कि पीने का पानी घर तक पहुंचे, साथ ही यह दृष्टिकोण भी बदले और यह सुनिश्चित करें कि जल स्रोत संरक्षित हों। केवल जमीन से पानी निकालने की आदत को छोड़ने और पानी का ट्रीटमेंट करके जमीन में पानी भरने पर कार्य करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि अधिकारी दृष्टिकोण बदले और यह सुनिश्चित करें कि पानी के दोहन के साथ जल स्त्रोत का वाटर लेवल भी बना रहे।

वाटर लेवल को बनाए रखने के लिए जनपद एवं ग्राम स्तर पर जल प्रबंधन की योजनाऐं बनायी जायें। उन्होंने मिसाल देते हुए कहा कि पिछले 50 हजार वर्षों से मौजूद नैनीताल की झील को न जाने कितनी पीढ़ियों ने संरक्षित किया होगा परंतु पिछले 50 वर्षों में हमने इसे प्रदूषित किया है। कुमाऊं के आयुक्त राजीव रौतेला के कोसी नदी के संरक्षण के प्रयास की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि पहाड़ का पानी व जवानी पहाड़ के काम नहीं आती, इस धारणा को बदलने की जरूरत है। देश मे 260 करोड़ हाथ हैं, वे जुट जाएं तो जल संरक्षण कर देश को जल समृद्ध बनाएं व माताओं-बहनों के जीवन का कष्ट घटाएं।

News

क्रिक्रेट मैदान पर इस खिलाड़ी के”काजल” के आगे भारत की जीत पड़ी फिकी

views
5826

क्रिक्रेट के मैदान पर आपने खिलाड़ीयों के जौहर उनकी प्रतिभा उनकी बैटिंग और बॉलिग व फिल्डिंग के बल पर देखें होगें और इसी हुनर के चलते वे अक्सर चर्चाओं में रहते है लेकिन शायद यह पहला मौका है कि कोई खिलाड़ी अपनी खूबसूरती और अपने मेकअप को लेकर चर्चाओं में आया हो। हम बात कर रहे है महिला टी-20 वर्ल्ड कप में भारत और बांग्लादेश के बीच खेले गये मुकाबले की।

जंहा भारत ने भले ही बाग्लादेश को 18 रनो से हरा दिया हो लेकिन दर्शको और अखबारों की सुर्खियां बाग्लादेश की एक खिलाड़ी ने जीत लिया। मैच के दौरान क्रिकेट फैन्स की नजर बांग्लादेशी खिलाड़ी जहांनारा आलम पर पड़ी.नजर पड़ने के बाद मैच का अंजाम से अलग जहांनारा सोशल मिडिया पर ऐसे छायी कि हर कोई उसकी खूबसूरती का कायल हो गया। वो हर बार की तरह इस बार भी मैच के दौरान आंखों में काजल लगाकर पहुंची थी. जिसके कारण वो सोशल मीडिया पर क्रश गर्ल बन चुकी हैं. लोग उनकी खूब तारीफ कर रहे हैं.

भारत ओर बांग्लादेश के बीच महिला टी-20 वर्ल्ड कप का मैच खेला गया जिसमें भारत ने बांग्लादेश का 18 रनों से शिकस्त दे दी। इस मैच में भारत की शेफाली वर्मा की घमाकेदार बल्लेबाजी और पूनम यादव की जबरदस्त फिरकी के सामने विपक्षी घराशाही हो गये। हार के बाद बांग्लादेश की एक खिलाड़ी ने मैदान पर ऐसा जादू चला कि हर कोई उसी का दिवाना हो गया। इस मैच में बांग्लादेश की जहांनारा आखों में काजल लगा कर मैदान में उतरी थी।

जिसके बाद क्या था हर कोई उसी की ओर आकृषित हो गया। टीवी कैमरे से लेकर क्रिक्रेट फैन सभी उसी की तस्वीर लेने के लिए आतुर दिखे। ऐसा नहीं है कि जहांनारा पहली बार मैदान में काजल लगा कर खेलने उतरी हो इससे पहले भी जहांनारा काजल लगा कर मैदान में उतर चुकी है। जिससे वे सुर्खियों में रह चुकी हैं। इस समय सोशल मिडिया पर उन्हे खासा पसंद किया जा रहा हैं। युवा जहां नारा को सोशल मिडिया पर उन्हे अपना कर्श बताने लगे हैं।

भारत—बाग्लादेश के बीच मुकाबला खेला गया. जिसमें टीम इंडिया ने बांग्लादेश को 18 रन से हरा दिया. भारत के खिलाफ जहांनारा खेल में कुछ खास नहीं कर पाईं. जहांनारा ने गेंदबाजी में महगी साबित होते हुए 4 ओवर में 33 रन दिये। उन्ही दूसरी ओर बल्लेबाजी में भी वो महज 10 रन बनाकर आउट हो गईं। खेल में भले ही जहांनारा कुछ खास न कर पायी हो लेकिन उनके काजल ने कई युवा दिलों को बोल्ड किया और खराब परफोरमेंस के बाद भी सुर्खियों में बनी रहीं।

News

बंशीधर भगत की टीम में हरिद्वार को नहीं मिली जगह, 28 लोगों की टीम घोषित

IMG-20200225-WA0003
views
5954

देहरादून। बीजेपी प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा कर दी गई है। बंशीधर भगत की इस कार्यकारणी में जन्हा गढ़वाल और कुमाऊं का सामंजस्य बिठाने का प्रयास किया गया तो वहीं हरिद्वार को भगत की इस टीम में जगह नहीं दी गई। 28 सदस्यों की इस टीम में एक भी हरिद्वार के नेता को जगह नहीं दी गई। हालंकि भगत ने मोर्चो के प्रदेश अध्यक्ष में एक मोर्चा हरिद्वार को जरूर दिया है। भगत ने 6 मोर्चो के अध्यक्षों की भी घोषणा की।

 

प्रदेश भाजपा की कार्यकारिणी गठित
खजान दास प्रदेश उपाध्यक्ष, अनिल गोयल प्रदेश उपाध्यक्ष कैलाश शर्मा प्रदेश उपाध्यक्ष पुष्कर धामी प्रदेश उपाध्यक्ष राजकुमारी गिरी प्रदेश उपाध्यक्ष कुसुम कंडवाल प्रदेश उपाध्यक्ष देवेंद्र भसीन प्रदेश उपाध्यक्ष खिलेंद्र चौधरी प्रदेश उपाध्यक्ष, अजय कुमार प्रदेश महामंत्री राजेंद्र भंडारी प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार प्रदेश महामंत्री पुनीत मित्तल प्रदेश कोषाध्यक्ष बलवीर गुनियाल प्रदेश मंत्री, पुष्कर काला प्रदेश मंत्री आशीष गुप्ता प्रदेश मंत्री राजेंद्र बिष्ट प्रदेश मंत्री आदित्य चौहान प्रदेश मंत्री नीरु देवी प्रदेश मंत्री मधुबन प्रदेश मंत्री किरण देवी प्रदेश मंत्री कौस्तुभानंद जोशी प्रदेश कार्यालय सचिव, सुरेश जोशी प्रदेश प्रवक्ता विनय रोहिल्ला प्रदेश प्रवक्ता विनय गोयल प्रदेश प्रवक्ता नवीन ठाकुर प्रदेश प्रवक्ता प्रकाश रावत प्रदेश प्रवक्ता विनोद सुयाल प्रदेश प्रवक्ता

इसके अलावा बीजेपी प्रदेश मोर्चा के अध्यक्ष भी नियुक्त किए जा चुके हैं, जिनमें कुंदन लटवाल प्रदेश अध्यक्ष युवा मोर्चा रितु खंडूरी प्रदेश अध्यक्ष महिला मोर्चा अंबा दत्त आर्य प्रदेश अध्यक्ष अनुसूचित मोर्चा राकेश राणा प्रदेश अध्यक्ष अनुसूचित जनजाति मोर्चा, राकेश गिरी प्रदेश अध्यक्ष ओबीसी मोर्चा, अनिल चौहान को प्रदेश किसान मोर्चा का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है।

News

अब देहरादून से दिल्ली केवल ढाई घंटे में, बनेगा यह नया एक्सप्रेस वे

CM Photo 01 dt, 24 February, 2020~2
views
6005

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने देहरादून दिल्ली के बीच एलिवेटेड एक्सप्रेस वे को भारत सरकार से सैद्धांतिक स्वीकृति मिलने पर प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए कहा कि इस राष्ट्रीय राजमार्ग के बन जाने से राज्य के पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। यह राष्ट्रीय राजमार्ग राज्य के आर्थिक विकास में मील का पत्थर साबित होगा। राष्ट्रीय राजमार्ग के बन जाने से दिल्ली से देहरादून के बीच की दूरी लगभग 180 किलोमीटर रह जाएगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार राजमार्ग निर्माण में एनएचएआई की हर संभव सहायता उपलब्ध कराएगी।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से सोमवार को मुख्यमंत्री आवास में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अध्यक्ष एस. एस. संधू ने शिष्टाचार भेंट की। उन्होंने बताया कि शीघ्र ही देहरादून से दिल्ली हेतु नए राष्ट्रीय राजमार्ग का निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस नए राष्ट्रीय राजमार्ग के बन जाने के बाद दिल्ली से देहरादून की दूरी मात्र ढाई घंटे में पूर्ण की जा सकेगी। इस राजमार्ग में एलिवेटेड रोड और मोहंड के पास एक नई सुरंग प्रस्तावित है।

अध्यक्ष एनएचएआई संधू ने मुख्यमंत्री से कहा कि इस राष्ट्रीय राजमार्ग कुछ भाग उत्तर प्रदेश के फॉरेस्ट और वाइल्ड लाइफ से होकर गुजरता है। उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार से फॉरेस्ट एवं वाइल्ड लाइफ क्लियरेंस कार्य में तेजी लाने का अनुरोध किया जाए, ताकि राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण का कार्य शुरू किया जा सके।

प्राधिकरण(एन.एच.ए.आई.), के अध्यक्ष एस0एस0 संधू से विचार-विमर्श के दौरान परियोजना निर्माण कार्य में तेजी लाने के लिए विभागीय अधिकारियों की समन्वय समिति गठित करने के निर्देश दिए। इस कमेटी में अपर मुख्य सचिव लो0नि0वि,  प्रमुख सचिव/सचिव वन एवं पर्यावरण आदि विभागों को सदस्य के रूप में शामिल करने के निर्देश दिए।

English EN Hindi HI