News

हरिद्वार में 32 साल से फरार चल रहा कैदी पकड़ा, इस मामले में मिली थी सजा

IMG-20200211-WA0031

हत्या के मामले में कोर्ट से आजीवन कारावास की सजा मिलने के बाद से फरार चल रहे।कैदी को पुलिस ने 32 साल बाद गिरफ्तार किया सजायाफ्ता कैदी उत्तराखंड के जिला हरिद्वार के थाना खानपुर से लगे। जिला बिजनौर के थाना मंडावर से लगी गंगा नदी के किनारे झोपड़ी बनाकर भेस बदलकर रह रहा था। पुलिस ने मंगलवार को उसे कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया। आपको बता दें वर्ष1981 में लक्सर कोतवाली के रायसी चौकी क्षेत्र के प्रतापपुर गांव में एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। मामले पुलिस ने 3 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। तीनों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। बाद में उन्हें जमानत मिल गई थी। मामले सुनवाई तत्कालीन सत्र न्यायालय सहारनपुर में हुई। सुनवाई के दौरान एक आरोपी की मौत हो गई थी। जबकि दो आरोपियों श्रवण व वेदपाल निवासी ग्राम प्रतापपुर को न्यायालय से 1988 में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। इसी दौरान दोनों आरोपित फरार हो गए थे। काफी तलाश के बावजूद उनका पता नहीं लगने पर दोनों को फरार घोषित किया गया था। पुलिस ने उनकी खोजबीन में लगी रही 1 सप्ताह पहले पुलिस को वेदपाल के एकड़ गांव थाना पथरी क्षेत्र में होने की जानकारी मिली थी। इसमें पुलिस ने कार्रवाई करते हुए वेदपाल को एकड़ से गिरफ्तार कर लिया जो कि भेष बदलकर मटर कारोबारी का काम कर रहा था। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए न्यायालय समक्ष पेश किया था। जहां से उसको जेल भेज दिया गया। वही पुलिस ने दूसरे फरार आरोपी श्रवण पुत्र चंदू को सोमवार देर रात मुखबिर की सूचना पर उत्तराखंड जिला हरिद्वार के थाना खानपुर से लगे। जिला बिजनौर के थाना मंडावर से लगी गंगा नदी के किनारे झोपड़ी बनाकर भेष बदलकर रह रहा था। पुलिस ने घेराबंदी कर आरोपी को धर दबोचा वही कोतवाल वीरेंद्र सिंह नेगी ने बताया कि लक्सर कोतवाली क्षेत्र के प्रतापपुर में एक व्यक्ति की हत्या कर दी गई थी। जिसमें दो आरोपी आजीवन कारावास की सजा के थे। जो फरार चल रहे थे उसमें से एक आरोपी वेदपाल को 1 सप्ताह पहले जेल भेज दिया गया था। वही मुखबिर की सूचना पर दूसरे आरोपी श्रवण पुत्र चंदू को देर रात मुखबिर की सूचना पर धर दबोचा जिसको सहारनपुर न्यायालय में पेश किया जा रहा है।

Mahaveer negi
written by: Mahaveer negi
English EN Hindi HI